Loading...

रविवार, मार्च 04, 2012

केसे करें दिन की शुरुआत ?

हर मेनेजर पर एक जिम्मेदारी ऑफिस के माहोल को सकारात्मक रखने की भी होती है. यह कहना जितना आसान हे, अमल करना उतना ही मुश्किल. यहाँ पांच टिप्स दिए हैं जो शायद आपकी मदद कर सकें. :

१.      करें शुभारम्भ  :

दिन की शुरुआत अच्छे मूड से घर छोड़ते हुए करें. ऑफिस में पूरे विश्वास से प्रवेश करें. मुस्कुराते हुए अपने स्टाफ का अभिवादन करें. आपके चेहरे से लगना चाहिए कि स्टाफ का दिन अच्छा गुजरेगा.

२.      असरदार शब्द चुनें :

स्टाफ से बात करते समय सरल, उचित और सकारत्मक शब्दों का उपयोग करें. “कृपया” , “धन्यवाद”, “शाबास” जेसे शब्द आपको स्टाफ के नजदीक ले जाते हैं. “तुम बहुत अच्छा काम कर रहे हो. “ यह कह कर आप अपने सहयोगी को अधिक प्रोत्साहित करते हैं बनिस्बत कुछ गिफ्ट देने के.

३.      अपेक्षा स्पष्ट करें :

स्टाफ को काम कि ब्रीफ साफ़ दें. बजाय अध्यापक की तरह होमवर्क देने के उन्हें बताएं कि क्या करना है, कैसे करना है और कब तक पूरा करना है. बीच – बीच में रिव्यू करें. अगर स्टाफ कही उलझ रहा है तो बजाय डांटने के उनका मार्गदर्शन करें. प्रोजेक्ट के लक्ष्य और कारणों कि चर्चा कर स्टाफ में विश्वास जगाएं.

४.      फीडबैक जरुर दें :

समय – समय पर स्टाफ को उसके काम के बारे में उचित सलाह दे. जिन क्षेत्रों वह कमजोर हो उसमे उसका मार्गदर्शन करें. अगर बजट परमिट करे तो शोर्टटर्म ट्रेनिंग के लिए भी भेजें.  सप्ताह में कम से कम एक बार पूरे स्टाफ के साथ मिलें. इस अनोपचारिक मीटिंग में हलके फुलके वातवरण में लक्ष्यों की चर्चा की जा सकती हे.

५.      पुरूस्कार और अनुशासन :

अगर अच्छे कम की पहचान न हो तो कोई भी अतिरिक्त श्रम नहीं करेगा . अच्चा काम करने वालों की कदर करें. उनकी उपलब्धियों को दूसरे स्टाफ के समक्ष भी रखें . हर टीम में कुछ ऐसे सदस्य होते हें जिन्हें अनुशासित रखना पड़ता हे वर्ना एक गन्दी मछली पूरे तालाब का क्या हाल करती हे आपको पता हे.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें