Loading...

रविवार, अगस्त 05, 2012

शनि ने बदली राशि : बदलेगी किस्मत ?

God  of  Justice ?
अगस्त २०१२ के पहले शनिवार को शनि ने कन्या राशि को छोड़कर उच्च राशि तुला में प्रवेश कर लिया है । शनि राशि परिवर्तन से जहां सिंह राशि वालों को साढ़े साती से निजात मिलेगी, वहीं वृश्चिक राशि वालों पर साढ़े साती प्रभावी हो जाएगी।


यूँ तो इस परिवर्तन से जातकों को राशिवार अलग अलग फल मिलेंगे , परन्तु   ज्योतिषविदों का मानना है कि उच्च राशि का शनि सभी जातकों को श्रेष्ठ फल देने वाला ही रहेगा।


'शनि के ४ अगस्त सुबह 8:55 पर तुला में प्रवेश करते ही मिथुन व कुंभ की ढैया  समाप्त हो जाएगी । इनकी अगली राशियों  कर्क एवं मीन राशि वालों को ढैया शनि शुरू  हो जाएगा  ज्यादातर लोग साढ़े साती से घबराते हैं. शनि के राशि परिवर्तन से कन्या, तुला व वृश्चिक को साढ़े साती लगेगी।


साढ़े साती व ढैया रोग, पीड़ा व चिंताकारक, धनहानि, रोजगार में कमी वाला रहता है। शनि के दुष्प्रभाव कम करने का सर्वोत्तम रास्ता है सादा और ईमानदार व्यव्हार. शनि न्यायप्रिय होने से साढ़ेसाती के दौरान दुरव्यव्हारियों को कष्ट देते हैं । उपासना के तौर पर शनि मंत्र के जाप, शनिवार का व्रत, सप्त धान्य का दान करना व शिवपूजन के साथ पीपल वृक्ष का भी पूजन करने से शनि का अशुभ फल कम होता है ।


ओम शं शनिश्चराय नमः “  या ओम् प्रां प्रीं प्रों सः शनिश्चराय नमः बीज मन्त्रों का जाप करना लाभदायक रहता है ।  सूर्य पुत्र  शनि शिव और हनुमान भक्तों पर भी कम कठोर होते हैं इसलिए इनकी पूजा भी की जाती है । कुछ ज्योतिषविद शनिवार को तेल के दान की सलाह देते हैं ।


अब  देखते हैं कि अगले ढाई साल राशिवार शनि क्या फल देंगे । शनि की गति को चार भागों में बाँटा जाता है -  लोहे का पाया , तांबे का पायाचांदी का पाया और सोने का पाया । इन स्तिथियों के प्रभाव  भिन्न होते हैं.  


अगले  ढाई सालों तक शनि की स्तिथि इस प्रकार रहेगी : -
  • मेष, कन्या व कुंभ राशि वालों को सोने के पाए में शनि विचरण करेगा।
  • वृष, सिंह व धनु राशि वालों को ताम्र पाए में विचरण करेगा ।
  • मिथुन, तुला व मकर के लिए चांदी के पाए से और
  • कर्क, वृश्चिक व मीन राशि वालों को लोहे के पाए से आगामी समय तक विचरण करेगा।
इन पायों के आधार पर ये रहेगा प्रभाव : 
  • सोने व लोहे के पाए से विचरण वाला शनि मनोबल को कमजोर व मन को अशांति कारक रखता है ।
  • ताम्र व चांदी के पाए वाला शनि सत्पुरुषों के मार्ग दर्शन से श्रेष्ठ फलदायी व भाग्य वृद्धिकारी रहता है ।
सामान्य भविष्य :


वर्तमान   में चल रहा मंगल - शनि' का योग शनि के परिवर्तन के साथ ही समाप्त हो जायेगा .  इससे  शुभ फलों  में श्रेष्ठता आएगी    अशुभ फलों का प्रभाव कम होगा  एवं  मंहगाई पर रोक लगेगी     मगर  14 अगस्त  को मंगल के भी तुला राशि में प्रवेश से दोनों का योग फिर शुरू हो जायेगा 

Other  Posts :




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें